ऐ देश तुम उनको याद करो!

Submitted by satya on Sun, 02/14/2016 - 12:37

रुक कर पल भर के लिए ज़रा,

ऐ देश तुम उनको याद करो.

जो मिटा गए अपनी हस्ती,

इस देश की लाज बचाने को,

उनको नहीं तो कम से कम,

उनकी यादों को आबाद करो.

 

देश की खातिर मरे मिटे,

क्या जोशे जुनून था वो.

जो गिरा गए इस धरती पर,

पानी नहीं था, खून था वो.

 

उनके उस खून की लाज रखो,

यूँ देश को ना बर्बाद करो.

रुक कर पल भर के लिए ज़रा,

ऐ देश तुम उनको याद करो.